बुद्ध का एक ब्राह्मण से संवाद

अंधविश्वास के प्रति tc  parihar का मत
बुद्ध का एक ब्राह्मण से संवाद
ब्राह्मण -- मै जन्म से श्रेष्ठ हूँ

बुध्द --  कैसे  ?

ब्राह्मण -- क्योंकि मै ब्राह्मण हूँ ।

बुद्ध -- ठीक है, अच्छा एक बात बताइए ,.......आपके घर की महिलाए गर्भवती होती है ?

ब्राह्मण -- हां होती है ।

बुद्ध -- वैसे ही होती है जैसे अन्य महिलाए होती ......या फिर ....?

ब्राह्मण -- हां वैसे ही होती है ।

बुद्ध -- आपकी महिलाओ की गर्भावस्था उतने ही समय की होती है जितने समय की अन्य महिलाओ की होती है ?

ब्राह्मण -- हां उतने ही समय की होती है ।

बुद्ध -- बच्चा पैदा अर्थात प्रसूति भी वैसे ही होती है जैसे अन्य महिलाओ के जरिए होती है ?

ब्राह्मण -- हां वैसे ही होती है ।

बुद्ध -- जब गर्भवती होने का तरीका, गर्भावस्था का समय और बच्चा प्रसूति का भी तरीका ....ये सभी प्रक्रियाएं एक ही समान है तो आप ब्राह्मण अपने आप को किस आधार पर कहते है कि हम ब्राह्मण पैदा होते ही अर्थात जन्म से ही श्रेष्ठ है ......?? ?

बुद्ध के इस प्रश्न का उत्तर ब्राह्मण के पास नही था .....

बुद्ध --  मतलब यह है कि मानव अपने कर्म से श्रेष्ठ है अपने कर्म से ही महान है ना कि जन्म से .....
ब्राह्मण का राज उनके ज्ञान पर नहीं तुम्हारे अज्ञान पर टिका है।
ब्राह्मण तुमसे पेड़ पुजवा सकता है,
पत्थर पुजवा सकता है, धरती, आकाश, जल, अग्नि, वायु, देहरी (चौखट), तस्वीर, लोहा, ईंट, पशु, पक्षी या जो कुछ भी उसे दिखाई दिया। उसने तुमसे खुले आम पुजवा दिया।

और ये सब एक अनपढ़ ब्राह्मण ने आपके पढ़े लिखे IAS, IPS, वक़ील, मजिस्ट्रेट, इंजीनियर, डॉक्टर से करवाया है।
 फिर भी आप कैसे कहते हैं के आप ब्राह्मण के ग़ुलाम नही हैं?             ब्राह्मणों की कहानी

जब भूकम्प आने वाला हो तो उनको पता नहीं होता ,

जब हुदहुद तूफान आने वाला हो तो पता नहीं होता

जब ट्रेन पलटने वाली या लड़ने  वाली हो तो पता नहीं होता,

जब नोट बदलने वाला हो तो पता नहीं होता,

जब अपने देश पर हमला होने वाला हो तो पता नहीं होता,

जब देश मे बंम बिस्फोट होने वाला हो तो पता नहीं होता

जब केदार नाथ बाढ़ मे बह जाने वाला हो तो पता नहीं होता,

जब भारत की राजधानी में किसी बस में लड़की का रेप होने वाला हो तो पता नहीं होता ,

जब देश मे आतंकवादी घूम रहे होते तो पता नहीं होता,

जब सीमा के सैनिकों का गला कटने वाला हो तो पता नही होता,

जब चारो धाम जाते समय यात्री बस खाई मे गिरने वाला हो तो पता नहीं होता,

जब कोई प्लेन लुप्त होने वाली हो तो पता नहीं होता,

जब बारिस होने पर बिजली कड़कने वाली हो और किसी के ऊपर बिजली गिरने वाली हो तो इन्हें पता नहीं होता।

इनको केवल वह पता होता जो सम्भव नहीं।

जैसे
किसी पर ग्रह नक्षत्र

-दोष ,पिछले जन्म का पाप,

मरने के बाद स्वर्ग दिलाना,

माता-पिता को मरने के बाद बैठाना,

 बच्चे को सत्तईसा में पड़ना

आदि सभी अन्ध विश्वास
मनगढंत बातें।

जिनको पिछले जन्म की
और स्वर्ग की जानकारी हो; वे ये सब क्यों नहीं जानते ?

इसलिए नहीं जानते क्योंकि ये सब देखे जा सकते हैं,
हक़ीकत जाना जा सकता है।

यह message share karein  और ब्राह्मणों की मनगढ़ंत बातों को सामने लाये ।

यदि यह message आप आगे send करेंगे तो लोगो मे  जागरूकता आएगी ।
 नहीं तो । ब्राह्मण हमे ऐसे ही!
  अपने झूठे मनगढ़ंत बातों से ।
  लूटते रहेंगे ।
 🙏🙏🙏
मतलब सर्वसमाज के लोग जन्म से नही कर्म से श्रेष्ठ होते है ।।

0 टिप्पणियाँ:

Your suggestion are very helpful please comment suggestion and your ideas
Jai bhim
आपके सुझाव हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है कृपया अपने सुझाव तथा विचार कमेंट बॉक्स में व्यक्त करें जय भीम